Randhir Singh – Poems

खड़ा था मैं अकेला हूं उस मोड़ पर, लोग जा चुके थे साथ छोड़कर, जिंदगी कहां आसान होती है, पता

Read more
Translate »